: vskjharkhand@gmail.com 9431162589 📠

भारत गौरव – सिविल सेवा परीक्षा में पहले तीन स्थानों पर लड़कियां

भारत गौरव – सिविल सेवा परीक्षा में पहले तीन स्थानों पर लड़कियांरांची, 01 जून उत्तर प्रदेश की धरती पर जन्मी, पली-बढ़ी बिजनौर की श्रुति शर्मा ने संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा में टॉप किया है। यही नहीं टॉप 3 में सभी लड़कियां हैं।

दूसरे नंबर पर बिहार की अंकिता अग्रवाल और तीसरे पर चंडीगढ़ की गामिनी सिंगला रहीं। 30 मई, 2022 को घोषित संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा के अंतिम परिणाम के अनुसार टॉप 25 सफल उम्मीदवारों में से 10 महिलाएं हैं। उनकी यह सफलता महिला सशक्तिकरण की दिशा में आधी दुनिया को ही नहीं समूचे भारत को गौरवान्वित कर रही है।

संघ लोक सेवा आयोग के अनुसार 177 महिलाओं सहित कुल 685 उम्मीदवारों की विविध केंद्रीय सेवाओं में नियुक्ति के लिए अनुशंसा की गई है।

टॉप पर रही श्रुति शर्मा भी सिविल सर्विस में रहते हुए महिला सशक्तिकरण की दिशा में कार्य करना चाहती हैं। समाजशास्त्र इनका प्रिय विषय है। श्रुति अभी दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से समाजशास्त्र में एमए कर रही हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय के सेंट स्टीफन कॉलेज से हिस्ट्री आनर्स किया और फिर जेएनयू से एमए को बीच में ही छोड़ सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी का मन बना लिया। यह उनका दूसरा प्रयास था। पूर्व में एक नंबर से छूटे इंटरव्यू से वे हताश नहीं हुईं, बल्कि अधिक उत्साह और मनोयोग से फिर से परीक्षा दी। मात्र कोचिंग सामग्री पर निर्भर न रहकर स्वयं समाचार पत्र पढ़कर और टेस्ट पेपर्स की श्रृंखला से जुड़कर निरंतर अभ्यास किया। पढ़ाई के लिए गुणवत्तापूर्ण घंटों को तवज्जो देते हुए पढ़ाई में आगे बढ़ती रहीं।

दूसरे स्थान पर रही अंकिता अग्रवाल कोलकाता के व्यावसायिक परिवार से हैं। अंकिता ने दिल्ली विश्वविद्यालय से इकोनोमिक्स आनर्स किया। अंकिता का कहना है कि सेंट स्टीफन कॉलेज के प्रोफेसर्स ने उन्हें बहुत प्रेरित किया। सिविल सेवा परीक्षा में यह अंकिता का तीसरा प्रयास था। पॉलिटिकल साइंस और इंटरनेशनल रिलेशंस विषय से परीक्षा दी।

तीसरे स्थान पर सुशोभित गामिनी सिंगला पंजाब (संगरूर) से हैं। सिविल सेवा परीक्षा के दूसरे प्रयास के बाद सफल होकर तीसरे रेंक पर पहुंची गामिनी ने चंडीगढ़ के पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज से बीटेक किया। बीटेक करने के बाद सिविल सेवा परीक्षा देने की ठानी और नौकरी के प्रस्ताव ठुकरा कर पढ़ाई में जुट गईं। गामिनी का कहना है कि ‘इस माध्यम से मैं समाज को कुछ देना चाहती थी, लोगों की मदद करना चाहती थी।’ लिखित परीक्षा में गामिनी ने ऑप्शनल विषय के रूप में समाजशास्त्र का चयन किया।

गौरतलब है कि करीब पांच लाख उम्मीदवारों ने अक्तूबर 2021 में प्रारंभिक परीक्षा दी थी। जिसमें से 9214 उम्मीदवार मुख्य लिखित परीक्षा के लिए उत्तीर्ण हो पाए। 1824 उम्मीदवार पर्सनैलिटी टेस्ट के लिए प्रस्तुत हुए। करीब 10 लाख उम्मीदवार रजिस्टर हुए थे।

इन सबके बीच महिलाओं का टॉप रेंक पर आना आधी दुनिया के साथ साथ भारत गौरव भी है।


LATEST VIDEOS

: vskjharkhand@gmail.com 9431162589 📠 0651-2480502