: vskjharkhand@gmail.com 9431162589 📠
राँची :लोकमंथन द्वारा आयोजित अंतर विश्वविद्यालय प्रतोयोगिता के समापन समारोह में छात्रों को संबोधित करते हुए खेलमंत्री अमर कुमार बाउरी ने कहा किBharat VSK 29 09 18 लोकमंथन विचारों का महाकुम्भ है। यहां देश भर के ज्ञानी व्यक्ति एक भारत श्रेष्ठ भारत के निर्माण के लिए अपने विचार प्रस्तुत करेंगे। उन्होंने अंतर विश्वविद्यालय प्रतियोगिता  में विभिन्न विश्वविद्यालयों से आये छात्रों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि भारत का भविष्य आपलोग है। युवा ही सोचे कि देश को कैसे आगे बढ़ाना है और भारत को विश्वगुरु कैसे बनाएं। मंत्री ने कहा कि हम पहले भारतीय है, उसके बाद हम किसी राज्य के होते है। लोकमंथन भारत को समझने का यह मौका है। उन्होंने राज्य के सभी युवाओं को इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए मंच से आमंत्रित किया। उन्होंने युवाओं को एक भारत श्रेष्ठ भारत के निर्माण में अपनी भूमिका देने का आग्रह किया।कार्यक्रम के मुख्य वक्ता प्रज्ञा प्रवाह के राष्ट्रीय संयोजक जे. नंद कुमार ने छात्रों को संबिधित करते हुए कहा कि इस कार्यक्रम का मुख्य विषय भारत बोध है। उन्होंने कहा कि भारत एक सांस्कृतिक धारा प्रवाह है। हमारे देश का हर व्यक्ति भारत बोध को मजबूत कर रहे है और पूर्व में भी किया है। उन्होंने कहा कि भारत के अंदर ही कुछ युवा 'भारत तेरे टुकड़े होंगे' का नारा दे रहे है।  कुछ लोगों का कहना है कि भारत का निर्माण अंग्रेजों ने किया है। भारत का इतिहास सबसे पुराना है। इस इतिहास से भी पुराना वेद है। भारत के लोगों को बांटने की कोशिश आज की जा रही है। हम सब एक है इसे जानने के लिए भारत की गहराई में जाने की जरूरत है। केरल का लोक गीत और झारखंड की लोक गीत के बोल एक ही है बस Bharat VSK 29 09 18 भाषा अलग है। पोंगल, करमा पूजा, छठ पूजा का उद्देश्य एक ही है।उन्होंने कहा कि भारत को समझने के लिए मन को बड़ा करने की जरूरत है। लोकमंथन राष्ट्र सर्वोपरि के मंत्र के साथ काम कर रही है। हमे संकल्प लेने की जरूरत है कि हम भारत को एक बनाये और विकास को गति देने में देश की मदद करें। उन्होंने कहा कि लोकमंथन विचारशील और कर्मशील की संगोष्ठी है। लेकिन इससे पहले "राष्ट्र सर्वोपरि' हमारा उद्देश्य है। लोकमंथन में एक भारत की झलक कला, चित्र, नृत्य, शिल्प, व्याख्यान आदि के माध्यम से दिखेगी। लोकमंथन में 25000 से अधिक छात्रों ने भाग लिया। देश भर से  84 छात्र को लोकमंथन कार्यक्रम के लिए चुना गया है। उन्होंने सभी छात्रों को लोकमंथन कार्यकम में आमंत्रित किया। रांची विश्वविद्यालय के उप कुलसचिव प्रीतम कुमार ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि इस कार्यकम से देश भर से आने वाले लोग एक दूसरे को समझ सकेंगे। यह कार्यक्रम 27 से 30 सितंबर तक होगी। करीब 1500 से ज्यादा लोग इस कार्यक्रम में अपनी बात रखेंगे, अपनी कला का प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने कहा कि अंतर विश्वविधयालय प्रतियोगिता का मकसद था कि छात्र अपने स्तर को समझे और उसे एक मंच के जरिये दुनिया तक पहुचाये। रांची विश्वविद्यालय के पी के वर्मा ने कहा कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य था छात्रों के प्रतिभा को निखारना। इस तरह के कार्यक्रम में छात्रों के छिपे प्रतिभा को निखारा जा सकता है। कार्यक्रम में अंतर विश्वविद्यालय प्रतियोगिता के चार श्रेणी पोस्टर मेकिंग, डिबेट, चित्रकला और निबंध लेखन के प्रतिभागियों को चेक और प्रशस्तिपत्र देकर मंत्री अमर कुमार बाउरी ने सम्मानित किया।

LATEST VIDEOS

: vskjharkhand@gmail.com 9431162589 📠 0651-2480502