: vskjharkhand@gmail.com 9431162589 📠

ई.एम.एस, पिपचो के मुख्य द्वार के समक्ष धर्मांतरण के विरुद्ध एक दिवसीय धरना

हजारीबाग में ईसाई मिशनरियों द्वारा प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तन कराए जाने के मामले के खिलाफ सदर विधायक के नेतृत्व में एकजुट हुए हजारों सनातन धर्म के लोग || सनातन संस्कृति पर हमेशा से प्रहार होते रहे हैं, लेकिन कोई हमें छोड़ेगा तो हम छोड़ेंगे नहीं खुलकर सनातनी समाज के लोग करें प्रतिकार - स्वामी सीताराम शरण जी महाराज || ई.एम.एस, स्कूल बना है धर्मांतरण का अखाड़ा, आज सांकेतिक रूप से कर रहे हैं आग्रह, धर्मांतरण का खेल बंद करें मिशनरी अन्यथा हम सनातनी बर्दास्त नहीं करेंगे - मनीष जायसवाल

ई.एम.एस, पिपचो के मुख्य द्वार के समक्ष धर्मांतरण के विरुद्ध एक दिवसीय धरनारांची, 01 सितंबर  : झारखंड राज्य के हजारीबाग जिले में धर्मांतरण का मुद्दा जन मुद्दा बनता जा रहा है। हजारीबाग सदर विधानसभा क्षेत्र के दारू प्रखण्ड सहित कई अन्य क्षेत्रों में अनुसूचित जाति, जनजाति, अशिक्षित भोले- भाले परिवार के लोगों को ईसाई मिशनरियों द्वारा दिगभ्रमित कर और विभिन्न प्रकार के लोभ- लालच और प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तन कराने का कार्य तेजी से किया जा रहा है। कई मामला के उजागर होने और उसकी पुष्टि होने के पश्चात बुधवार को हजारीबाग सदर विधायक मनीष जायसवाल के नेतृत्व में स्थानीय भाजपा मंडल अध्यक्ष बसंत नारायण की अध्यक्षता में भारी संख्या में सनातन धर्म के महिल-पुरुषों ने एकजुटता का परिचय देते हुए उपस्थित होकर दारू प्रखंड अंतर्गत आई.एम.एस. स्कूल, पिपचो के गेट के बाहर ईसाई धर्मावलंबियों द्वारा प्रलोभन देकर धर्मांतरण कराए जाने के विरुद्ध एकदिवसीय शांतिप्रिय धरना- प्रदर्शन किया गया। जिसमें दारू समेत हजारीबाग विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न प्रखंडों से भरी संख्या में मौजूद सनातन धर्म के लोगों ने ईसाईयों द्वारा हिंदू धर्म पर किए जा रहे कुठाराघात और ईसाईयों के कुत्सित मानसिकता के खिलाफ़ आंदोलन की उलगुलान किया। यहां पंहुचने पर मुख्य वक्ता चित्रकूट धाम से पहुंचे विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल के सदस्य सह जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के प्रमुख राष्ट्रीय प्रखर युवा संत महंत श्री श्री 108 स्वामी सीताराम शरण जी महाराज और हजारीबाग विधायक मनीष जायसवाल का धरना में शामिल होने वाले सनातन धर्म के लोगों ने "जय श्री राम" के नारे के गुंजायमान के साथ भव्य स्वागत किया। लोगों ने सामूहिक रूप से धरना दिया और आई.एम.एस. स्कूल प्रबंधन, ईसाई मिशनरियों के खिलाफ नारेबाजी भी की। धरना स्थल पर हाथों पर तख्ती लेकर लोग बैठे। जिसमें तख्तियों पर सेवा के नाम पर हिंदुओं का धर्मांतरण बंद करो, आदिवासियों को इसाई बनाना बंद करो, आईएमएस स्कूल, पिपचो होश में आओ, धर्मांतरण का खेल बंद करो जैसे स्लोगन लिखे थे ।

ई.एम.एस, पिपचो के मुख्य द्वार के समक्ष धर्मांतरण के विरुद्ध एक दिवसीय धरनामौके पर मुख्य वक्ता चित्रकूट धाम से पहुंचे  संत महंत श्री श्री 108 स्वामी सीताराम शरण जी महाराज ने कहा की हिंदुस्तान की मिट्टी चंदन के समान है और यहां की सनातन संस्कृति पुरातन है। भारतीय संस्कृति पर जिस प्रकार पूर्व से बहुत प्रहार हुए हैं,वर्तमान में भी हो रहा है और आगे भी होगा इतना अगर अन्य किसी धर्म- संस्कृति के साथ होता तो वर्तमान समय में उसका अस्तित्व ही मिट जाता। लेकिन भारतीय संस्कृति कल भी था आज भी है और आगे भी अछुन्न रहेगा। उन्होंने कहा कि भारतीय और भारत में अंतर है। भारत में रहने वाले कुछ जयचंद ही भारत के खिलाफ खड़े हो रहे हैं जिससे धर्मांतरण जैसे मुद्दे बढ़ते जा रहे हैं। सनातन धर्म अलौकिक है और अलौकिक रहेगा। जिस दिन सनातन धर्म का पतन हुआ उस दिन विश्व के सभी धर्म हमेशा के लिए मिट जाएंगे। स्वामी सीताराम शरण जी महाराज ने कहा कि सेवा का प्रचार कर इसे साधन बनाकर चर्च को केंद्र बिंदु मानकर ईसाई मिशनरी के कुछ कुत्सित मानसिकता के लोग धर्म परिवर्तन के साधु में जुटे हैं। उन्होंने हिंदू धर्म के लोगों के लिए चिंतन- मंथन और निर्णय करने का आग्रह किया साथ ही कहा कि हम सभी को संकल्प लेना होगा कि जो भी हमारे सनातन संस्कृति के साथ छेड़छाड़ करेगा उसे हम कदापि छोड़ेंगे नहीं। उन्होंने अपने- अपने स्तर
जनसंख्या नियंत्रण के लिए भी आवाज उठाने का आग्रह भी लोगों से किया। मौके पर सदर विधायक मनीष जायसवाल ने कहा की सनातन संस्कृति दयावान और क्षमावान रही है। हम सदियों से शालीन और भोले भाले रहे हैं। जिसका फायदा उठाकर इस आई.एम.एस स्कूल जैसे प्रबंधन और शिक्षण से जुड़े लोग अपने धर्म को बढ़ावा देने के लिए हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं से खेलते हुए उन्हें लालच और प्रलोभन दिखाकर धर्मांतरण करने का कार्य धड़ल्ले से कर रहे हैं। ईसाई मिशनरियों ने इसकी शुरुआत छोटे स्तर पर की लेकिन हमने कभी प्रतिकार नहीं किया, हमने जमीन पर उतर कर कभी विरोध नहीं किया जिसका नतीजा हुआ कि इनका मनोबल बढ़ता गया और हमारी संस्कृति से ये खेलते रहे। मनीष जायसवाल ने कहा कि सनातन धर्म की उत्पत्ति सदियों-सदियों पूर्व हुई लेकिन उसके बाद जो भी पंथ आया उसके उत्पत्ति की तिथि और उत्पत्ति करता का जिक्र इतिहास में दर्ज है। उन्होंने कहा कि जिस शिक्षा के मंदिर से टॉपर और प्रतिभावान विद्यार्थी निकलने चाहिए उसे ईसाई मिशनरियों ने यहां स्थित चर्च के माध्यम से धर्म परिवर्तन कराने का अखाड़ा बना रखा है। हजारीबाग के किसी भी स्कूल में मंदिर या मस्जिद नहीं दिखता लेकिन मिशनरी स्कूलों में चर्च होना इनके लिए अत्यंत जरूरी है क्योंकि यहां से यह धर्म परिवर्तन का कुत्सित खेल खेलते हैं। इनका उद्देश्य शिक्षा के आड़ में धर्म परिवर्तन कर आना है। आईएमएस स्कूल, पिपचो धर्म परिवर्तन का अड्डा बन कर रह गया है। विधायक मनीष जायसवाल ने आईएमएस स्कूल, पिपचो के प्रबंधन और शिक्षकों से हाथ जोड़कर विनती करते हुए कहा कि अपने इस शिक्षा के मंदिर को धर्म परिवर्तन का अखाड़ा ना बनने दें और तत्काल इस गलती को स्वीकारते हुए इसे पूर्णतः बंद करें अन्यथा मैं आज इस सांकेतिक धरना के माध्यम से आपको चेतावनी देता हूं कि भविष्य में आप के साथ अगर कुछ भला बुरा हुआ तो उसका जिम्मेदार आप खुद होंगे। विधायक मनीष जायसवाल ने यह घोषणा भी किया कि पूरे हजारीबाग क्षेत्र में हम किसी पार्टी के बैनर तले नहीं बल्कि सनातन संस्कृति की रक्षा के लिए सनातन धर्म के लोगों के साथ मिलकर सभी प्रखंडों में व्यापक स्तर पर मतांतरण किए हुए लोगों का सरना और हिन्दू धर्म में घर वापसी और धर्म परिवर्तन के खिलाफ जागरूकता अभियान चलाएंगे। इसकी शुरुआत दारू से की गई अगला कार्यक्रम कटकमदाग प्रखंड के ओदरना में आयोजित होगा। उन्होंने कहा की जिस धर्म में हम पैदा हुए हैं उस धर्म में रहने और उसी धर्म में मरने का अधिकार हमारा है। ऐसे में कोई अगर अपनी स्वेच्छा से धर्म परिवर्तन करता है तो उसका यह कानूनन अधिकार है लेकिन किसी प्रकार की लोभ-लालच या प्रलोभन देकर किसी को धर्म परिवर्तन कराया जाता है तो यह ना केवल भारत में रहकर भारत के संविधान का उल्लंघन करना है बल्कि यह घोर अन्याय और दूसरे धर्म के प्रति कुठाराघात है। उन्होंने कहा कि हजारीबाग में इस प्रकार का धर्म परिवर्तन कराया जाना बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उपस्थित लोगों से आग्रह करते हुए कहा कि आपके गांव या कस्बों में अगर कोई भी धर्म परिवर्तन की नियत से पहुंचे तो उसे चिन्हित कर प्रशासन को जरूर सौंपा ताकि उस पर कानूनी प्रक्रिया की जा सके। महिला समूह की बहनों से भी उन्होंने आग्रह किया कि धर्म परिवर्तन के प्रति अपने- अपने इलाके में लोगों को अवश्य जागरूक करें। सनातन धर्म प्रेमियों से यह अपील भी किया कि धर्म परिवर्तन कराने वाले मिशनरी विधर्मियों से अपनों को बचाने के लिए आप पूर्णकालिक के रूप में सहयोग करें हम एक व्यापक आंदोलन चलाएंगे और राज्य स्तर पर हजारीबाग से एक संदेश देंगे कि हिंदू धर्म के प्रति कुठाराघात करने वाले लोगों को हम मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार हैं। धरने के क्रम में विशेष रुप से विहिप के डॉ. वीके सिंह, सुदेश चंद्रवंशी, भाजपा ओबीसी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अमरदीप यादव, भाजपा जिला अध्यक्ष अशोक यादव, सदर विधानसभा क्षेत्र के विधायक प्रतिनिधि दिनेश सिंह राठौर, सुनील साहू, विशाल वाल्मीकि, मनमीत अकेला, पंकज मेहता, वसंत नारायण सिंह, इंद्र पासवान, लक्ष्मी देवी, संजीत कुमार, रामचंद्र प्रसाद, सुमित्रा देवी, सोनी कुशवाहा, मुखिया अनूप कुमार, भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के जिला अध्यक्ष महेंद्र राम बिहारी ने भी संबोधित किया। मंच संचालन मुकेश कुमार और धन्यवाद ज्ञापन इंद्रदेव कुशवाहा ने किया ।

मौके पर विशेष रुप से समाजसेवी श्रद्धानंद सिंह, भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के जिला अध्यक्ष तनवीर अहमद, किसान मोर्चा के जिला अध्यक्ष नवीन रंजन दुबे, अनुसूचित जनजाति मोर्चा के जिला अध्यक्ष महेश तिग्गा, भाजपा नेता अनिल मिश्रा, विवेकानंद सिंह, पंकज गुप्ता, राम जी कुशवाहा, विवेक बरियार, रणधीर पांडेय, रीतलाल यादव, सदर विधायक प्रतिनिधि विजय कुमार, कटकमसांडी विधायक प्रतिनिधि किशोरी राणा, दारू विधायक प्रतिनिधि बालदेव बाबू, विधायक मीडिया प्रतिनिधि रंजन चौधरी,
भैया नितेश, सत्यभामा, ज्योत्सना देवी, मुखिया मंजू मिश्रा, मीरा मेहता, सोनी देवी, अविनाश यादव, रिंकू वर्मा सहित अन्य गणमान्य लोग मौजूद रहे।


LATEST VIDEOS

: vskjharkhand@gmail.com 9431162589 📠 0651-2480502